Sunday, November 6, 2011

बच्चन जी नही खरीद सके दशद्वार

बच्चन जी नहीं खरीद सके 'दशद्वार'

(दसद्वार से सोपान एवं फिर प्रतीक्षा तक का सफर)


(हरिवंश राय बच्चन )

(जन्म-27 नवम्बर,1907, निधन-18जनवरी,2003)

मैं छुपाना जानता तो जग मुझे साधु समझता
शत्रु मेरा बन गया है, छल रहित व्यवहार मेरा

27 नवंबर 1907 को इलाहाबाद में जन्मे हरिवंश राय बच्चन ने प्रयाग विश्वविद्यालय से अंग्रेज़ी में स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त करने के बाद कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से पीएच.डी. किया। आपने इलाहाबाद विश्वविद्यालय में अध्यापन किया और बाद में भारत सरकार के विदेश मंत्रालय में हिन्दी विशेषज्ञ रहे । राज्यसभा के मनोनीत सदस्य के रूप में भी आपने दायित्व निर्वाह किया । हालावाद के एक महत्त्वपूर्ण स्तंभ के रूप में बच्चन जी सदैव याद किये जाएंगे। मधुशाला जैसी अमर कृति के इस रचयिता को अनेक पुरस्कार और सम्मान प्राप्त हुए। गीतों के इस सौदागर के गीतों में दर्शन, प्रेम और आध्यात्म सहज ही झलक उठते हैं। निशा-निमंत्रण’, ‘प्रणय पत्रिका’, ‘मधुकलश’, ‘एकांत संगीत’, ‘सतरंगिनी’, ‘मिलन यामिनी’, ”बुद्ध और नाचघर’, ‘त्रिभंगिमा’, ‘आरती और अंगारे’, ‘जाल समेटा’, ‘आकुल अंतरतथा सूत की मालानामक संग्रहों में आपकी रचनाएँ संकलित हैं। आपकी कृति दो चट्टानेको 1968 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मनित किया गया। इसी वर्ष उन्हें सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार तथा एफ्रो-एशियाई सम्मेलन के कमल पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया। आपकी आत्मकथा चार भागों में प्रकाशित हुई है। बिड़ला फाउन्डेशन ने इस आत्मकथा के लिये आपको सरस्वती सम्मान दिया। सहजता और संवेदनशीलता उनकी कविता का एक विशेष गुण है। यह सहजता और सरल संवेदना कवि की अनुभूति मूलक सत्यता के कारण उपलब्ध हो सकी। बच्चन जी ने बडे साहस, धैर्य और सच्चाई के साथ सीधी-सादी भाषा और शैली में सहज कल्पनाशीलता और जीवन्त बिम्बों से सजाकर सँवारकर अनूठे गीत हिन्दी को दिए। 18 जनवरी सन् 2003 को मुम्बई में आपका निधन हो गया। इलाहाबाद के सिविल लाइंस के 17 क्लाइव रोड वाले भव्य मकान में हालावाद के प्रवर्तक डॉ. हरिवंश राय बच्चन बतौर किरायेदार लंबे समय तक रहे और इसे अपना स्थायी आशियाना बनाने की उनकी दिली तमन्ना थी लेकिन उस मकान को खरीदने की उनकी ख्वाहिश कभी पूरी न हो सकी। हरिवंश राय बच्चन के शिष्य और उनको करीब से जानने वाले अजीत कुमार ने बताया कि बच्चन जी की इच्छा के चलते अमिताभ भी इलाहाबाद में सिविल लाइंस के 17 क्लाइव रोड़ वाले मकान को खरीदना चाहते थे और कहीं न कहीं इस मकान को संग्रहालय में तब्दील कराने की इच्छा रखते थे। इस मकान में बच्चन जी ने इलाहाबाद प्रवास के दौरान अपना समय गुजारा था और इसके साथ उनकी तमाम मधुर स्मृतियाँ जुड़ी थीं। शायद यही एक प्रमुख कारण रहा होगा जिसकी वजह से वह इसे खरीदना चाहते थे। इस मकान का निर्माण इलाहाबाद संग्रहालय में कार्यरत ब्रजमोहन व्यास ने कराया था, जिसे बाद में श्रीशंकर तिवारी ने खरीद लिया और इस वक्त इसका मालिकाना हक उनके वंशजों के पास है। बच्चन ने अपनी आत्मकथा के चौथे खंड दशद्वार से सोपान तकमें लिखा है, ‘दशद्वारऔर सोपानदो घरों के नाम हैं। इलाहाबाद के क्लाइव रोड वाले मकान को दशद्वार नाम दिया, क्योंकि यह मकान रोशनी वाला और हवादार था। इसमें दस दस खुली जगह थी, जिनसे रोशनी और हवा अंदर आती है। क्या कबीर के दोहेदसद्वारे पिंजरा तामे पंछी पौन। रहबे को अचरज है जाए तो अचरज कौन।।को ध्यान में रखकर इसका निर्माण किया गया था। मौत प्राय: अचरज में डाल देती है । अचरज करने की चीज तो जिंदगी है।हरिवंश राय बच्चन स्वयं का परिचय इन पंक्तियों से कराते थे, ‘मिट्टी का तन, मस्ती का मन, क्षण भर जीवन, मेरा परिचय।बच्चन ने लिखा है, ‘एक दफा जब वह व्यास जी से मिले तो उन्हें अपनी सूझ बताई। उन्होंने कहा, ‘क्या खूब पकड़ा है।इस मकान को उन्होंने अपनी पत्नी ललिता के नाम पर ललिताश्रम नाम दिया था।उन्होंने आगे लिखा है कि दिल्ली के गुलमोहर पार्क के मकान का नाम उन्होंने सोपानदिया है । जनता सरकार के कार्यकाल में जब बच्चनजी मुंबई चले गए और वहाँ की आबोहवा उन्हें रास नहीं आ रही थी। उसी दौरान उन्होंने क्लाइव रोड वाले मकान को खरीदने की इच्छा जाहिर की थी। यह कोई 70 के दशक का आखिर का दौर रहा होगा। लेकिन किन्हीं कारणों के चलते यह सौदा हो नहीं पाया । बच्चन जी के मकान मालिक रहे दिवंगत श्रीशंकर तिवारी ने भी एक दफा बताया था कि उन्होंने इस मकान को खरीदने की ख्वाहिश रखी थी और उस वक्त उन्होंने कहा था, ‘गुरूजी यह आपका मकान है, जब चाहे तब आइए और जब तक दिल करे इसमें रहिए, लेकिन मैं इसे बेचूँगा नहीं ।

***************************************************************************************************************

64 comments:

  1. kahan se laye aap intni jankari ?padh kar aanand aaya aapka dhnyavad
    rachana

    ReplyDelete
  2. संजय जी एवं मेरा साहित्य जी आप लोगों को मेरा आभार ।

    ReplyDelete
  3. रोचक जानकारी को जीवंत ढंग से बयां आपने .... आभार

    ReplyDelete
  4. Interesting and appealing information .

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया, महत्वपूर्ण और ज्ञानवर्धक जानकारी प्राप्त हुई! शानदार और रोचक विवरण ! बेहतरीन पोस्ट!

    ReplyDelete
  6. डॉ मोनिका वर्मा, Zeal एवं बबली जी आप लोगों की टिप्पणी से मेरा मनोबल बढ़ा है । भविष्य में भी आपकी प्रतिक्रियों की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  7. arey waah... ye baatein hame nahi pata thi... bahut-bahut shukriya inhe itne sajag tareeke se prastut karne ke liye...

    ReplyDelete
  8. Behad rochak aalekh...aapkee shaili aisee hai,jaise koyi saamne baith baatcheet kar raha ho!

    ReplyDelete
  9. पूजी एवं त् क्षमा जी आप लोगों की टिप्पणी से मेरा मनोबल बढ़ा है । भविष्य में भी आपकी प्रतिक्रियों की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  10. DUSK-DRIZZLE, Thanks for your first appearance and comment.

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया और रोचक ज्ञानवर्धक जानकारी प्रस्तुति के लिए आभार!

    ReplyDelete
  12. Harivansh ji ke baare mein itni vistrit jaankaari padhkar achchha laga. dashdwaar ki tarah kitni ikshaayen adhuri rah jati hai hamari. is lekh ke liye aabhar.

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर जानकारी मिली इस प्रसंग से..
    जय श्री राम

    ReplyDelete
  14. हरिवंश राय बच्चन जी स्वच्छंद कवि हैं...उनकी जीवनी हिंदी साहित्य की अनमोल धरोहर है। उन्होंने जितनी साफगोई से अपनी जीवनी लिखी है...वह ईमानदार जीवनियों में से एक है। आपने सही उद्धृत किया है कि-
    ‘मैं छुपाना जानता तो जग मुझे साधु समझता
    शत्रु मेरा बन गया है, छल रहित व्यवहार मेरा’

    दशद्वार से सोपान तक की जानकारी देने और मनुष्य की अतृप्त इच्छाओं का यह सफर हमारे साथ बांटने के लिए धन्यवाद!!!

    ReplyDelete
  15. हरिवंशराय बच्चन की बहतरीन जानकारी देने के लिए आभार ..
    मेरे नए पोस्ट में स्वागत है ...

    ReplyDelete
  16. आशुतोष, मनोज भारती एवं धीरेंद्र जी आप लोगों की टिप्पणी से मेरा मनोबल बढ़ा है । भविष्य में भी आपकी प्रतिक्रियों की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  17. बच्चन जी के बारे में आपका ये आलेख बहुत अच्छा लगा...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  18. बहुत ही ज्ञानवर्धक प्रस्‍तुति आपकी कलम से ... आभार ।

    ReplyDelete
  19. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  20. वाह क्या बात कही :)
    ‘मैं छुपाना जानता तो जग मुझे साधु समझता
    शत्रु मेरा बन गया है, छल रहित व्यवहार मेरा’

    हम तो ये कहेंगे ..अपने आप को छुपा कर कोई जिया तो क्या जिया ..अपने ही परिचय से वो फिर बेजार रहा |
    बच्चन जी के बारे में पहले नहीं पढा था उनके बारे में जानना अच्छा लगा आपका शुक्रिया दोस्त |

    ReplyDelete
  21. मानाक्षी पंत जी आपने सही कहा है - अपने आप को छुपा कर कोई जिया तो क्या जिया । आपकी प्रतिक्रिया ले मेरा मनोबल बढा है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  22. बहुत अच्छी जानकारी
    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  23. प्रेम सरोवर जी बता नहीं सकता कि मैं कितना खुश और संतुष्ट हूँ आपके इस बच्चन जी के आलेख पढ़ कर...मैं तो इनके ऊपर हर आलेख को तलाशते रहता हूँ !
    बहुत बहुत धन्यबाद आपका इस आलेख के लीये!
    और हाँ आप मेरे ब्लॉग पे आकर जो हमें उत्साहित किया उसके लीये बहुत बहुत आभार ... !

    ReplyDelete
  24. बहुत अच्छी जानकारी..धन्यवाद.

    ReplyDelete
  25. 'बच्चन'जी के जीवन से संबन्धित जानकारी ज्ञानवर्धक है।

    ReplyDelete
  26. रोचक जानकारी का बहुत सुंदर प्रस्तुतीकरण....

    ReplyDelete
  27. रोचक जानकारियाँ मिलीं...आभार|

    ReplyDelete
  28. बच्चन जी की इतनी रोचक तथा नई जानकारी के लिए आभार !

    ReplyDelete
  29. बच्चन जी मेरे सबसे प्रिय कवि हैं।
    उनकी आत्म कथा के अधिकांश अंश बिना रुके पढ़ा।
    आपके इस आलेख द्वारा बहुत सी बातें याद आ गई।

    ReplyDelete
  30. Respected sir,thanks alot for coming to my blog.You are personally requested to visit it time and again and comment as per yr wishes.A very interesting article revealing new facts about legendary dr.bacchan.my best wishes.
    dr.bhoopendra
    rewa

    ReplyDelete
  31. हरिवंश राय बच्चन जी पर विस्तृत जानकारी | अभी तक हम तो अनभिज्ञ थे | उपलब्ध करवाने के लिए शुक्रिया |

    यदि आपकी आज्ञा हो तो इस लेख के कुछ अंश "टिप्स हिंदी में" के काव्य मंच पेज पर लिंक कर दूं |

    समय मिले तो इस ब्लॉग का भी भ्रमण करें
    टिप्स हिंदी में

    ReplyDelete
  32. श्री मनोज कुमार जी,
    मेरे पोस्ट पर आपके आगमन से अत्यंत खुशी हुई है क्योंकि आपने ही मेरी ऊंगली पकड़ कर यहां तक की सफर करा दी है । आशा है भविष्य में भी आप आपनी कृपादृष्टि बनाए रखेंगे । आपका एवं अभिव्यंजना जी का आभार । शुभ रात्रि ।

    ReplyDelete
  33. वनीत नागपाल जी ,
    आपको सहर्ष अनुमति प्रदान करता हूं कि आपको जहाँ भी उचित लगे इस पोस्ट को लगा दें । सादर ।

    ReplyDelete
  34. अच्छी जानकारी .

    ReplyDelete
  35. बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  36. अब उनके बेटे तो कई दशद्वार या सोपान एक विज्ञापन से ही खरीद सकते हैं…मैंने सोचा कि कभी पैसे नहीं ले गए होंगे, या कम रहे होंगे तब किताब नहीं खरीद पाए होंगे लेकिन यहाँ तो बात ही दूसरी थी…

    मैं छुपाना जानता तो जग मुझे साधु समझता
    शत्रु मेरा बन गया है, छल रहित व्यवहार मेरा’ …लाजवाब, शानदार, बहुत अच्छा, छद्म साधु-संन्यासी से दूर…

    ReplyDelete
  37. बहुत बढ़िया जानकारी
    Gyan Darpan

    ReplyDelete
  38. रतन सिंह शेखावत जी आपका आभार ।

    ReplyDelete
  39. रोचक शैली में आपने हरिवंश राय जी के जीवन के इस प्रसंग को छुआ है ... बहुत अच्छा लगा ....

    ReplyDelete
  40. दिगंबर नासवा जी आपका आभार ।

    ReplyDelete
  41. बेहतरीन प्रस्तुति,शुरुआत में जो शेर है उसने तो पोस्ट में चार चाँद लगा दिए,आभार !

    ReplyDelete
  42. deri se pahunchne k liye kshama chaahti hun.

    aaj bahut se anchhuye pahluon ko apke aalekh dwara jaanNe ka mauka mila. bahut bahut aabhar jo in barikiyon se hame aapne avgat karaya.

    behtareen prastuti.

    ReplyDelete
  43. बच्चन जी के जीवन से जुडी एक और जानकारी मिली। आभार प्रेम जी॥

    ReplyDelete
  44. अनामिका जी,
    मैं इसका श्रेय श्री मनोज कुमार जी को देना चाहूँगा जिन्होंने मेरी अंगुली पकड़ कर .यहां तक की सफर करा दिया है । मेर पोस्ट पर आपके आगमन से मेरी साहित्यिक चिंतन - धारा को एक नई दशा और दिशा मिली हैं । सादर ।

    ReplyDelete
  45. बच्चन जी को पढना हमेशा ही अच्छा लगा है मुझे...उनके बारे में दी गयी इस जानकारी के लिए आपका धन्यवाद्!

    ReplyDelete
  46. बच्चन जी का छुपा पृष्ठ है, अति रोचक

    ReplyDelete
  47. harivansh rai bachchan ji mere pasndeeda kaviyon me se ek hain unke vishay me padhkar achcha laga.aapke blog par aana saarthak raha.

    ReplyDelete
  48. प्रेम बाबू!
    आपकी पोस्ट मेरे ब्लॉग पर अपडेट नहीं हो रही है... कृपया देखें, वहाँ अभी-भी 'पथ की पहचान' ही दिख रहा है.. इसलिए विलम्ब हुतु क्षमा याचना के साथ स्पष्टीकरण भी दे रहा हूँ...
    बच्चन जी मेरे प्रिय कवियों में से एक हैं और उनकी लगभग सारी पुस्तकें जिनका आपनी ज़िक्र किया है, मेरे व्यक्तिगत संकलन में हैं.. इन काव्य संग्रह के अतिरिक्त, मैं जोड़ना चाहूँगा कि उनके द्वारा अनूदित हैमलेट,मैकबेथ और ऑथेलो भी नायाब है... बिलकुल शेक्स्पियेर की तरह अनुवाद किया है मूल से, अर्थात जहाँ गद्य संवाद हैं वहाँ गद्य और जहाँ पद्य हैं वहाँ पद्य... गीतों को भी वैसा ही स्थान दिया है.. लगता है मानो शेक्सपियेर ने हिन्दी में ये नाटक लिखे हैं...यही बात उनके इट्स के काव्यानुवाद के साथ भी लागू होती है...
    उनकी सत्य की स्वीकारोक्ति ही उनको एक महान इंसान बनाती है, जो उनकी आत्मकथा की प्रथम तीनों श्रृंखला (क्या भूलूँ क्या याद करूँ,नीड़ का निर्माण फिर और बसेरे से दूर) में मिलता है...
    बहुत अच्छा लगा उनके बारे में आपकी अभिवक्ति देखकर!! मेरा प्रणाम उस महान कवि के चरणों में!!!

    ReplyDelete
  49. शत्रु मेरा बन गया है छल रहित व्यवहार मेरा ...
    बच्चन जी की यद् ताजा होगई ..रोचक विवरण ..
    मेरे ब्लॉग पर आने के लिए
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  50. sundar post...nayi jankari mili...

    ReplyDelete
  51. बच्चन जी को स्मरण करना अच्छा लगा।
    आभार आपका।

    ReplyDelete
  52. बच्चन जी के विषय में यह जानकारी मेरे लिये नई व विस्मयकारी है ।
    इतने अच्छे आलेख के लिये आपका बहुत-बहुत धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  53. सुंदर आलेख अच्छी जानकारी..उनकी रचना मधुशाला की याद आ गई ..
    नए पोस्ट में स्वागत है....

    ReplyDelete
  54. ज्ञानवर्धक जानकारी के लिए आभार!

    ReplyDelete
  55. 'बच्चन'जी के जीवन से संबन्धित जानकारी ज्ञानवर्धक है।

    नमस्कार प्रेम सागर जी, आप " गीत अंतरात्मा के " पर आये बहुत ख़ुशी हुई ,आप ने जो खुद के बारे में लिखा है वो बहुत ही अच्छा,बहुत कम लोग ऐसे लिख पाते,आप का ब्लॉग सच में बहुत ही उम्दा है....बधाई...

    'बच्चन'जी के जीवन से संबन्धित जानकारी ज्ञानवर्धक है।

    ReplyDelete