Wednesday, August 29, 2012

लोरी शिशु के लिए मां की दुलार भरी मुस्कान की छुअन है


 लोरी शिशु के लिए मां की दुलार भरी मुस्कान की छुअन है


(लोरी माँ के अछोर आनंद का गीत गुंजार है जो जन्मस्थ शिशु से लेकर शिशु के बालपन तक उसके हृदय में अमृत घोलकर उसे मीठी नींद का सोमरस पिलाते रहता है। लोरी के इस शाश्वत स्वरूप का न आदि है न अंत। यह शाश्वत अमृतमय है।) - डॉ.उषा वर्मा


                 प्रस्तुतकर्ता :प्रेम सागर सिंह

लोरी लोकसाहत्य की प्रमुख विधा है। यह लोकगीतों का ही प्रमुख अंग है, जिसमें लोक की सौंदर्य-चेतना, काल-चिंतन तथा जन-जीवन अभिव्यक्त हुआ है। जब शिशु केवल नाद को समझता है, सुर-माधुर्य को महसूस करता है, शब्दों और उसके अर्थ को नही तब मां उसे सुलाने का उपक्रम करते हुए जो दुलार भरी मुस्कान के छुअन के साथ स्नेहपूर्ण थपकी देती है और साथ ही उसके मुंह से ममतापूर्ण गीत सुर, ताल और लय में नि;सृत होता है, वही लोरी है। कभीकभी वह केवल गुनगुनाती है। सार्थक-निरर्थक शब्दों की वह लययुक्त ध्वनि भी लोरी है। इसका उद्देश्य है बालक को सुखद संगीत का श्रवण कराया जा सके जिससे वह निश्चिंत होकर सो सके। इससे बच्चे पर मनोवैज्ञानिक प्रभाव पड़ता है। वह मां की निकटता और स्पर्श का अनुभव करता है। लोरी बच्चे की भाषा की लय की पहचान कराती है। ध्वनियों का मेल सिखलाती है। बच्चों को कल्पनालोक में ले जाकर नए-नए सपने जगाती है। बालक के कोमल स्नायुओं पर सुखद प्रभाव डालती है।
जहां तक लोरियों के विषय की बात है इसका विषय कुछ भी हो सकता है। प्यार की सघनता में मां बच्चे को कुछ भी कह देती है। माँ की कल्पना का विस्तार अनंत है. उसी के अनुरूप विषय भी असीम है। शिशु को सुलाने में मानो नारी-चेतना-शक्ति केंद्रीभूत हो जाती है। इसका सृजन वात्सल्य के परिवेश में होता है। देश-विदेश कहीं की भी लोरी हो उसके विषय समान होते हैं। गाँव या शहर की हर माँ इसे अपने वात्सल्य से संपोषित करती है। लोरियों के अंतर्गत प्राकृतिक व परिवेश पशु-पक्षी-प्रेम भी व्यंजित होता है। पशु पक्षी बच्चों के आकर्षण का प्रमुख केंद्र हैं। उनका नाम सुनते ही बालक चुप हो जाता है। गाँवों की लोरी में खेत खलिहान, जमींदारी-संस्कृति आदि का चित्रण भी होता है। विषय चाहे कोई भी लोरी का उद्देश्य होता है शिशु को गोद में थपकी देकर अथवा पालने में झुलाकर सुलाना। लोकजीवन की प्रत्येक क्रिया लोरी के लय में बंध कर बच्चे को निद्राभूत कर देती है। वात्सल्य में माँ की कल्पना बहुत लंबी उड़ान भरती है। कभी वह चाहती हैकब लाल बड़ा के होई हैं, कब बाबा कि बगिया जईहें/कब आम घविद ले अईहें, कब आजी के घरवा धरि है।
बिहार के ग्रामीण समाज की एक लोरी कुछ ऐसे ही भावों को बयाँ करती है जिसमें माँ के स्नेहसिक्त भावों में उसके सपने भी बुने हुए हैं - आईहो रे निंदिया, तू आईयों हो रे निंदिया/ सपना सलोने सजईहो री निंदिया/ बड़ा होके बाबू हमार राज करिहें/ हीरा मोती मूंगवा से दिन रात खेलिहें। इन विषयों पर सबसे अधिक लोरियां मानव और प्रकृति के रिश्ते पर आधारित हैं। लोक साहित्य चाहे किसी भी भाषा का हो वहां लोरियों के माध्यम से शिशुओं को बहलाने और सुलाने का प्रयास किया गया है। पशु पक्षियों के प्रति शिशु का सर्वाधिक कौतुहल का भाव रहता है। इस कौतुहल का लाभ उठाकर उसे चुप कराने के लिए लोरी गाई जाती है। जिसमें पशु पक्षियों का उल्लेख रहता है। कभी-कभी बड़ी देर तक जब सुलाने दुलराने और हलराने या डराने से बच्चा नही सोता है तो वह सशंकित हो जाती है और उसे इस बात का विश्वास होता है कि उसे किसी की नजर लगी है।
माताएँ सुख की एवं वात्सल्य की जिस अनुभूति से पुत्र को सुलाने का उपक्रम करती है उसी मन:स्थिति में पुत्री को भी तरह-तरह के विशेषण देकर सुलाती है। वैदिक और लौकिक विचारधारा पुत्र और पुत्री को समभाव से देखती है। वहाँ भिन्नता नही है। पुत्रहीनता की स्थिति में यदि पिता को गति या मुक्ति नही मिलती तो दूसरी ओर वह यह भी स्वीकार करती है कि कन्यादान के बिना पति की जंघा की शुद्धि नही होती। यह सूत्र निश्चय ही दोनों के अंतर को मिटाने के लिए पर्याप्त प्रमाण है। संगीत का सबसे पहला परिचय बच्चे को लोरी के माध्यम से ही होता है। लोरी में संगीत तत्व अनिवार्य है। माता के हृदय का उदगार एवं उसकी रागात्मक भावनाएं गेय शैली में व्यक्त होती हैं। यह बच्चों के मनोभावों को अभिव्यक्ति देता है और लोरी मां की हृदयगत अनुभूतियों का दर्पण है। बच्चों को लेकर जो वे सपने बुनती है वे सब लोरी के विषय बन जाते हैं। वह समय के पार पहुंच उसकी दुल्हन को लेकर भी सुखद कल्पनाओं में खो जाती है। इन भावों में कहीं भी कृत्रिमता विद्यमान नही होती। वह देश और समय के पार पहुंच जाती है। कभी-कभी तो लोरियों में अनेक निरर्थक शब्द भी होते हैं। बस उनकी गुनगुनाहट ही बच्चे को निद्रालोक तक ले जाती है।
लोरी की उपर्युक्त विशेषताओं के आधार पर लोरी को इस प्रकार परिभाषित किया जा सकता है लोरी उनींदे बालक के मन को भाने वाला वह शिशु गीत है या लय की गुनगुनाहट है जिसका ताल और सुर में बँधा संगीत उसे अपने सम्मोहन में बांधकर विश्राम देता है और धीरे-धीरे बालक निद्रालोक में पहुँच जाता है। लोरी के बोल वात्सल्यमयी माता के अंतस से स्वत: बह निकलते हैं।
 नोट:- अपने किसी भी पोस्ट की पृष्ठभूमि में मेरा यह प्रयास रहता है कि इस मंच से सूचनापरक साहित्य एवं संकलित तथ्यों को आप सबके समक्ष सटीक रूप में प्रस्तुत करता रहूं किंतु मैं अपने प्रयास एवं परिश्रम में कहां तक सफल हुआ इसे तो आपकी प्रतिक्रिया ही बता पाएगी । इस पोस्ट को अत्यधिक रूचिकर एवं सार्थक बनाने में आपके सहयोग की तहे-दिल से प्रतीक्षा रहेगी । धन्यवाद सहित- आपका प्रेम सागर सिंह
              (www.premsarowar.blogspot.com)


*************************************************


24 comments:

  1. 'लोरी ' बहुत ही विस्‍तार से आपने इस पर चर्चा की है इस पोस्‍ट में ... बहुत ही अच्‍छी लगी आपकी यह प्रस्‍तुति... आभार

    ReplyDelete
  2. bisarti ja rahi ek vidha ke bare me sundar prastuti..

    ReplyDelete
  3. अच्‍छी लगी आपकी यह प्रस्‍तुति.

    ReplyDelete
  4. “लोरी उनींदे बालक के मन को भाने वाला वह शिशु गीत है या लय की गुनगुनाहट है जिसका ताल और सुर में बँधा संगीत उसे अपने सम्मोहन में बांधकर विश्राम देता है और धीरे-धीरे बालक निद्रालोक में पहुँच जाता है। लोरी के बोल वात्सल्यमयी माता के अंतस से स्वत: बह निकलते हैं।“ CHADAMAMA AAJA DUDH ROTI KHAJA .
    BEAUTIFUL EMOTIONAL POST.LET ME SAY PRANAM.

    ReplyDelete
  5. धन्यवाद रमाकांत सिंह जी। मेरा भी प्रणाम स्वीकार करें ।

    ReplyDelete
  6. लोरी में छिपा है, बचपन का प्यार..

    ReplyDelete
  7. प्रेम बाबू, हमारे कमेन्ट का उद्धार करें स्पैम से!!

    ReplyDelete
  8. बहुत ही अच्‍छी पोस्‍ट

    ReplyDelete
  9. आपकी पोस्ट 30/8/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें

    चर्चा - 987 :चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  10. सहज, सरल मीठी सी.

    ReplyDelete
  11. दुनिया का सबसे पहला और मधुर गीत लोरी है !
    आभार !

    ReplyDelete
  12. लोरी के बोल वात्सल्य और मातृत्व की सहज अभिव्यक्ति होते है ,जो माँ और शिशु को एक सहज तारतम्य में बांध कर रखते है ,माँ की लोरी ऐसा सम्मोहन उत्पन्न करती है की नीद को शिशु की पहुच से दूर होने की इच्छा ही नहीं होती,बढ़िया प्रस्तुति के लिए साधुवाद ।

    ReplyDelete
  13. आज भी गाँव में इसकी भरमार है | सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  14. लगता है प्रेम बाबू को हमारा कमेन्ट पसंद नहीं आया.. इसी से डिलीट मार दिए हैं का??

    ReplyDelete
  15. सलील भाई,
    मुझे इस संबंध में कुछ भी पता नही है कि यह सब कैसे हो गया। आपका कमेंट देख कर मैं बहुत ही हर्षित हुआ था क्योंकि बहुत दिनों बाद आपका कमेंट मेरे पोस्ट पर आया था। क्या आपका मन गवाही दे रहा है कि हम अईसा कर सकते हैं! इस संबंध में, मैं कल कार्यालय में मनोज कुमार जी से जानने की कोशिश करूंगा। थोड़े में कहूं तो मुझे SPAM के बारे में कुछ भी ज्ञान नही है।

    ReplyDelete
  16. सच है, लेकिन दुखद है कि आज के बच्चे इससे वंचित हैं, सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर कहा है नीलेश माथुर जी। वंचित नही है अपितु उन्हे वंचित कर दिया गया है क्योंकि आधुनिक माताओं के पास न इसका ज्ञान है न मां से कभी सीखा है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  18. बेहद सुन्दर और सारगर्भित रचना. मुझे अपने बचपन और गांव-घर की यद् आ गयी. मैं यह पोस्ट प्रिंट कर घर ले जा रहा हूँ.

    शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  19. लोरी में बसी है माँ की ममता, प्यार और दुलार... बहुत ही सुन्दर शब्दों में आपने लोरी को परिभाषित किया है... इस सुन्दर सार्थक आलेख के लिए आपका बहुत-बहुत आभार

    ReplyDelete
  20. lori shishu ka sangeet sey pahla parichay hai....sunder prastuti aabhar

    ReplyDelete
  21. लोरी गायकी भी एक कला है .. इसमें माँ का दुलार और प्यार कूट कूट के भरा है ... विस्तार से चर्चा की है आपने ... शुक्रिया ...

    ReplyDelete