Saturday, February 25, 2012

संसार में पाप की परिभाषा एक न हो सकी: भगवती चरण वर्मा




संसार में पाप की एक परिभाषा न हो सकी:भगवती चरण वर्मा

 भगवती चरण वर्मा
  
 (जन्म: 30 अगस्त 1903  निधन: 05अक्टूबर 1988 )

"उलझ सी जाती है जिंदगी की किश्ती दुनिया के मँझधार में,
इस भँवर से पार उतरने के लिए किसी के नाम की पतवार चाहिए ।

अकेले कोई भी सफर काटना मुश्किल हो जाता है,
मुझे भी इस लंबे रास्ते पर एक अदद हमसफर चाहिए।"

संसार में पाप कुछ भी नही है, वह मनुष्य की दृष्टिकोण की विषमता का दूसरा नाम है । प्रत्येक व्यक्ति एक विशेष प्रकार की मन: प्रवृति लेकर पैदा होता है प्रत्येक व्यक्ति इस संसार के रंगमंच पर एक अभिनय करने आता है । अपने मन: प्रवृति से प्रेरित होकर अपने पाठ को वह दुहराता है यही उसका जीवन है । जो कुछ मनुष्य करता है वह उसके स्वभाव के अनुकूल होता है और स्वभाव प्राकृतिक है। मनुष्य अपना स्वामी नही है वह परिस्थतियों का दास है विवश है । वह कर्ता नही है, वह केवल साधन है । फिर पुण्य और पाप कैसा ! मनुष्य में ममत्व प्रधान है । प्रत्येक मनुष्य सुख चाहता है । केवल व्यक्तियों के सुख के केंद्र भिन्न होते हैं । कुछ सुख को धन में देखते हैं, कुछ सुख को मदिरा में देखते हैं, कुछ सुख को व्यभिचार में देखते हैं, कुछ त्याग में देखते हैं पर सुख प्रत्येक व्यक्ति चाहता है; कोई भी व्यक्ति, संसार में अपनी इच्छानुसार वह काम नही करेगा, जिसमें दुख मिले - यही मनुष्य की मन: प्रवृति है और उसके दृष्टिकोण की विषमता है । संसार में इसीलिए पाप की परिभाषा नही हो सकी और न हो सकती है । हम न पाप करते हैं और न पुण्य करते हैं, हम केवल वह करते हैं, जो हमें करना पड़ता है । भगवती चरण वर्मा के उपन्यास चित्रलेखा से उद्धृत -----------  ( प्रस्तुतकर्ता : प्रेम सागर सिंह)

अपने पिछले पोस्ट में मेंने लेखक परिचय के रूप में अपनी सृजन-धर्मिता से साहित्य का आसमान नापने वाले तथा लोकगीतों एवं लोकजीवन के मर्मज्ञ लेखक भीष्म साहनी को आप सबके समक्ष प्रस्तुत किया था जिन्होंने अपनी भावनाओं,गहन अभिव्यक्तियों, भाषा-शैली,काव्य-सौष्ठव एवं अर्थच्छायाओ के माध्यम से मानव मन की रूपहली एवं झिलमिल पहलुओं को अपनी कृतियों में सर्वरूपेण एवं सर्वभावेन अभिनव तरीके से समाविष्ट कर पाठकों के समक्ष प्रस्तुत किया था ।कुछ अति संवेदनशील लोगों की मान्यता है कि प्यार अमर है दुनिया में, प्यार कभी नही मरता है, ठीक उसी तरह साहित्यकार  मर कर भी अमर ही रहता है क्योंकि उसकी कृतियां हमें उनकी उपस्थिति को एक नाम दे देती है जिसके वशीभूत होकर हम उस साहित्यकार के साथ, उसके तदयुगीन भावों एवं कृतियों को आत्मसात कर लेते हैं । कुछ ऐसे ही सप्तरंगी भावनाओं के साथ आज मेरा मन न जाने क्यूं उमड़-घुमड़ कर चित्रलेखा के उपन्यासकार भगवती चरण वर्मा पर बरस  जाना चाहता है जिन्होंने  उस उपन्यास के पात्र  बीजगुप्त और कुमार गिरि को उपन्यास का ध्रुवांत मानते हुए चित्रलेखा को संतुलन की विषुवत रेखा के रूप में अलौकिक स्थान दिया है। आईए, आज आपको इस महान साहित्यकार के साथ कुछ भूली बिसरी यादों को समेट कर कुछ जानने की कोशिश करने के लिए ले चलते हैं उनकी रचनाओं एवं संवेदनशील अभिव्यक्तियों की ओर जो हमें साहित्य-जगत से बिखरने नही देती हैं । भगवती चरण वर्मा जी हिन्दी भाषा के साहित्यकार थे । इनका विषय वर्तमान राष्ट्रीय उत्थान तथा भाषा सजीव और हृदय को छूनेवाली होती है । उन्होंने  कलात्मक शैली में अपनी कृतियों को लिखा है । इनका जन्म  उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के अंतर्गत शफीपुर गाँव में हुआ था । वर्माजी ने  इलाहाबाद से बी.ए., एलएल. बी. की डिग्री प्राप्त की और प्रारम्भ में कविता लेखन का कार्य शुरू किया।समय के प्रवाह के साथ इनकी कविता का रूप ,रंग एवं आयाम भी विस्तृत होता चला गया । कविता में प्रयुक्त इनके हर शब्द अपना क्षितिज क्रमश: विस्तृत करते  चले गए । इसके बाद इनकी लेखनी किसी अन्य विधा की तलाश करते-करते उपन्यास विधा पर आकर केंद्रित हो गई। इसके बाद 1936 के लगभग फिल्म कारपोरेशन, कलकत्ता में कार्य किया । कुछ दिनों विचार नामक साप्ताहिक का प्रकाशन-संपादन, का कार्य भी किया पर यहां की आबोहवा रास न आने के कारण बंबई में फिल्म- कथालेखन तथा दैनिक नवजीवनका सम्पादन, फिर आकाशवाणी के कई केंन्दों में कार्य करना शुरू कर दिया । बाद में,  1957 से मृत्यु-पर्यंत स्वतंत्न साहित्यकार के रूप में लेखन कार्य में अपने को सपर्पित रखा । इनके द्वारा विरचित चित्रलेखा उपन्यास पर दो बार फिल्म-निर्माण हुआ जिसके कारण भूले-बिसरे चित्र साहित्य अकादमी से सम्मानित भी किए । भगवती चरण वर्मा को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार  द्वारा, सन 1971 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। 1936 में फ़िल्म कारपोरेशन कलकत्ता में कार्य। विचार नामक साप्ताहिक पत्रिका का प्रकाशन संपादन। इसके बाद बम्बई में फ़िल्म कथा लेखन तथा दैनिक नवजीवन का संपादन। आकाशवाणी के कई केन्द्रों में भी कार्यरत रहे । 1957 से स्वतंत्र लेखन कार्य शुरू किया ।  इन्हे पद्मभूषण तथा राज्यसभा  की मानद सदस्यता से भी पुरस्कृत किया गया ।

रोचक बातें : -- ट्रैजडी किंग दिलीप कुमार का नामकरण अपने जमाने की मशहूर अभिनेत्री  देविका रानी ने नही, हिंदी के यशस्वी लेखक भगवतीचरण वर्मा ने किया था और इस बात को दिलीप कुमार ने अपनी कई भेंट वार्ताओं में स्वीकार भी किया है। भगवती चरण वर्मा के वयोवृद्घ पुत्र धीरेन्द्र वर्मा  जो अपने पिता के साथ उन दिनों मुंबई में थे । जब 1943 -44 में ज्वार भाटा फिल्म बन रही थी, जो दिलीप कुमार की पहली फिल्म थी। धीरेन्द्र वर्मा ने बताया कि सायरा बानो का यह कहना गलत है कि देविका रानी ने जब ज्वार भाटा  फिल्म के लिए यूसुफ खान को अनुबंधित किया, तो उन्होंने शुरू में तीन नाम वासुदेव, जहांगीर तथा दिलीप कुमार सुझाए थे और अंत में उनका नाम दिलीप  कुमार रखा गया। अवकाश प्राप्त हिंदी प्राध्यापक वर्मा ने बताया कि ज्वार भाटा की कहानी मेरे बाबूजी भगवती चरण वर्मा ने लिखी थी । इस फिल्म  के  निर्देशक अमिया चक्रवर्ती थे और इस फिल्म की हीरोइन मृदुला थीं । यह फिल्म मुंबई टाकीज की थी जिसकी  मालकिन देविका रानी थी । यूसुफ खान को फिल्म में लाने की योजना को मू‌र्त्त रूप लेने पर एक मीटिंग आयोजित की गई, जिसमें चक्रवती ने वासुदेव नाम सुझाया। देविका रानी ने तब बाबूजी से कहा कि आप हिंदी के जाने माने लेखक हैं। आप भी कोई नाम सुझाए, तब बाबूजी ने दिलीप कुमार का नाम सुझाया और तब से यूसुफ खान का नाम दिलीप कुमार हो गया।  आईए,एक नजर डालते हैं उनकी कृतियों पर जो हमें उनसे बरबस ही जोड़ देती हैं । इस संवेदनशील साहित्यकार के लिए मेरे मन में कुछ ऐसे भाव समाहित हैं जो इस ढलती वय में भी एक संबल प्रदान करती रहती है एवं आशा है कि सुधी ब्लॉगरवृंद भी अपने आपको इनसे अलग नही रख सकते - धन्यवाद

उपन्यास :  (1) अपने खिलौने (2) पतन (3) तीन वर्ष ( 4) चित्रलेखा (5) भूले-बिसरे चित्रलेखा  (6) टेढे़-मेढे़ रास्ते  (7)  सीघी सच्ची बातें  ( 8) सामर्थ्य और सीमा (9) रेखा  (10) वह फिर नही आई ( 11) सबहिं नचावत राम गोसाई  (12)  प्रश्न और मरीचिका  (13) युवराज चूण्डा   (14)  घुप्पल

कहानी-संग्रह       :      मोर्चाबंदी ।

कविता-संग्रह      :      (1) सविनय ( 2) एक नाराज कविता

नाटक                : (1) वसीहत (  2) रुपया तुम्हें खा गया ।
संस्मरण             :  (1) अतीत के गर्भ से
साहित्यालोचन :         (1) साहित्य के सिद्घांत  (2) रुप
कहानी:                मुगलों ने सल्तनत बख्स दी ।

नोट: आप सबके बहुमूल्य सुझावों एवं प्रतिक्रियाओं की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी ताकि अगले पोस्ट को अभिनव रूप में आप सबके समक्ष प्रस्तुत कर सकूं । धन्यवाद ।

****************************************************



83 comments:

  1. आपकी पोस्ट का सदा इन्तेज़ार रहता है...
    आप इन्तेज़ार करवाते भी बहुत हैं...शायद सार्थक लेखन में वक्त ज्यादा लगता है..
    "अभिनव रूप" में अगली पोस्ट की प्रतीक्षा में..
    सादर.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना एवं प्रोत्साहित करना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  2. प्रत्येक बार नई जानकारी के साथ ,प्रेरणा दायक पोस्ट . सादर आभार.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना एवं प्रोत्साहित करना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  3. फिर एक बार महत्वपूर्ण व्यक्ती परिचय
    देती सुंदर ,बेहतरीन पोस्ट है ,,
    और अंकल ये पोस्ट मेरे लिये बहूत उपयोगी है ....
    इसलिये आपका बहूत बहूत
    आभार :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. a complete... information.. about life and.. litreture/

      Delete
    2. आपका मेरे पोस्ट पर आना एवं प्रोत्साहित करना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
    3. आपका मेरे पोस्ट पर आना एवं प्रोत्साहित करना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  4. सदैव की तरह एक समग्र और रोचक परिचय...आभार

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद शर्मा जी । आपका आभार ।

      Delete
  5. हिंदी के जाने माने लेखक का विस्तृत परिचय..... आभार

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना एवं प्रोत्साहित करना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  6. बाबू भगवती शरण वर्मा के कहानी 'मुगलों ने सल्तनत बक्श दी और उपन्यास 'चित्रलेखा पढ़ा है फिल्म भी देखी है चित्र - लेखा .साधुवाद आपका उपन्यास हाथ आये तो एक बार फिर पढ़ जाएँ .

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना एवं प्रोत्साहित करना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  7. tahe dil se mafi chahti hoon ,bhagvati ji aur unki rachna se parichya karvane ke liye shukriya .

    ReplyDelete
    Replies
    1. ज्योति सिंह जी आपका आभार ।

      Delete
  8. नई जानकारी के साथ ,प्रेरणा दायक पोस्ट
    DADA AAPAKA HAR POST EK NAI JANKARI LEKAR AATA HAI .
    ITANE SUNDAR POST KE LIYE PRANAM SWIKAR KAREN.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना एवं प्रोत्साहित करना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  9. achchha likha hai aapne lekin aur bhi achchha likha ja sakta tha.

    ReplyDelete
    Replies
    1. जो मन में उभर कर आचा है उसे पोस्ट कर देता हबूं । अच्छा है या कैसा है, इस पर तो अपना वश नही है ।

      Delete
  10. जानकारी पूर्ण पोस्ट ...आभार

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना एवं प्रोत्साहित करना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  11. कई नई और रोचक बातें जानने को मिलीं.

    ReplyDelete
    Replies
    1. राहुल सिंह जी आपका आभार ।

      Delete
  12. भगवती चरण वर्मा जी का विस्तृत परिचय और जानकारी पाकर अच्छा लगा ।
    आभार इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना एवं प्रोत्साहित करना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  13. आपकी प्रस्तुति साहित्य के वांग्मय प्रकाश सी है, क्योकि भगवती चरंन वर्मा जी हिन्दी के महाँन साहित्यकार थे. बहुत बहुत साधुवाद.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना एवं प्रोत्साहित करना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  14. भगवती चरण वर्मा जी के संबंध में विस्तृत और रोचक जानकारी पढ़ कर ज्ञानवर्धन हुआ।

    ReplyDelete
  15. क्या रोचक लेख.. जानकारी भरा. धन्यवाद !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना एवं प्रोत्साहित करना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  16. prem ji apki es sundar pravishti ke sadar abhar....bahut hi rochak laga.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना एवं प्रोत्साहित करना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  17. भगवती चरण वर्मा जी से संबधित बहुत ही उपयोगी और रोचक जानकारी आपने उपलब्ध कराई है...धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना एवं प्रोत्साहित करना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  18. Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  19. सार्थक प्रस्तुति...
    सादर आभार.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  20. मुझे खेद है कि इधर नियमित नहीं हो पा रहा हूँ !
    बहुत सार्थक एवं प्रेरणादायक प्रस्तुति हमेशा कि तरह !
    आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  21. भगवती चरण वर्मा जी के बारे में जीवनी स्टाइल में आपने कई रोचक प्रसंगों की जानकारी दी । बहुत अच्छा रहा ये लेख ।
    अगले लेख की प्रतीक्षा रहेगी ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना एवं प्रोत्साहित करना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  22. भगवतीचरण वर्मा जी के विषय में यह आलेख बहुत जानकारीपूर्ण है..आपका बहुत आभार.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  23. भगवती चरण जी के जीवन वृत्तांत को बहुत खूबसूरती से पेश किया आपने...... कई नयी जानकारियां भी हासिल हुयी इस पोस्ट से..... आभार!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  24. बॆहतरीन जानकारी के साथ साथ समीचीन समालोचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना एवं प्रोत्साहित करना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  25. धन्यवाद...
    इतनी ढेर सारी जानकारी देने के लिए....
    बहुत ही उपयोगी है ये पोस्ट....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना एवं प्रोत्साहित करना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  26. भगवती चरण वर्मा के प्रायः सभी उपन्यास पढे हैं. पाप-पुण्य के सम्बंध में उनके विचार चिंतन के लिये उद्वेलित करते हैं।

    ReplyDelete
  27. bahut gyanverdhak janakari,aur bhtreen prastutui ke liye aabhar

    ReplyDelete
  28. Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना एवं प्रोत्साहित करना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  29. अद्भुत..!!! भगवती चरण वर्मा जी से अवगत करा के कृतार्थ कर दिया..
    kalamdaan.blogspot.in

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर आना एवं प्रोत्साहित करना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  30. बहुत सुन्दर जानकारीपूर्ण प्रस्तुति है आपकी.
    अति सरलता और रोचकता से आपने भगवती चरण वर्मा
    से हमें अवगत करवा दिया है.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए हार्दिक आभार,प्रेम जी.

    ReplyDelete
  31. भगवती बाबू के विषय में कई ऎसी बातें प्रकाश में आई, जिनसे परिचय न था.. फिल्म चित्रलेखा यद्यपि केदार शर्मा जी ने बनाई थी, तथापि उपन्यास के मुकाबले कुछ नहीं!!अच्छी प्रस्तुति!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सलील भाई,
      मेरी दृष्टि में आप क्रिकेट के खिलाड़ी "कपिलदेव" की तरह All rounder लगते हैं । आपकी प्रतिक्रिया से कुछ ज्ञान मिलता है । केदार शर्मा ने "चित्रलेखा" बनाई थी, इसकी जानकारी नही थी । मेरे पोस्ट पर आपका आना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  32. Aaap ka prastutikaran behad aakarsk laga mano chal chitra ho .
    meri blog par padharne ka shukriya.

    ReplyDelete
  33. अच्छी प्रस्तुति / बहुत पुरानी बात है , एक पत्रिका में इनका साक्षात्कार पढ़ा था / उसमे आपने स्वम कहा की मैंने चित्रलेखा उपन्यास लिखा तो लोगों ने उसे किसी अंग्रेज़ी कथा की नक़ल बतला दिया

    ReplyDelete
  34. bahut achchhi jankari is mahan lekhak/kavi ke bare me hamesha ki tarah gyan vardhak
    abhar
    rachana

    ReplyDelete
  35. aapke post par aana sadaiv sukhprad lagta hai. kisi pratishthit aur vikhyaat vyaktitva ke baare mein bahut achchhi jaankari milti hai. dhanyawaad.

    ReplyDelete
  36. वर्मा जी के विषय में पढ़ना बहुत अच्छा लगा.पाप और पुण्य की परंपरागत धारणाओँ को एक नई दृष्टि दे कर उन्होंने रूढ़ियों पर प्रहार किया है .

    ReplyDelete
  37. प्रेम सागर जी, भगवतीचरण वर्मा जी के बारे में जानकर अच्छा लगा... रोचक प्रसंग से एक नई जानकारी भी मिली.. अभी तक मैं भी यही समझता था की देविका रानी ने ही युसूफ का नाम दिलीप कुमार रखा था...

    ReplyDelete
  38. Replies
    1. आपका मेरे पोस्ट पर पुनरागमन इस बात का द्योतक है कि मेरी तरह आप भी संवेदनशील हैं । साहित्य से अपनी आत्म-बोध को अंगीकृत करने वाला व्यक्ति इसमें अपनी रूचि को प्रदर्शित कर पाता है । आपका मेरे पोस्ट पर पुन:आना सुखद लगा । धन्यवाद ।

      Delete
  39. रोचक प्रसंग से एक नई जानकारी भी मिली,सुन्दर प्रस्तुति के लिए हार्दिक आभार,प्रेम जी.

    ReplyDelete
  40. ज्ञानवर्धक एवं दिलचस्प !!!

    http://relyrics.blogspot.in/2012/02/valentine.html

    ReplyDelete
  41. बेहद अच्छी पोस्ट..ज्ञान का भण्डार लगा आपका ब्लॉग....
    शुक्रिया.

    ReplyDelete
  42. behtreen post, bahut kuch janne ko mila..aabhar

    ReplyDelete
  43. बहुत सुन्दर ज्ञानवर्धक जानकारी प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete