Monday, August 15, 2011

अभाव के द्वार पर
प्रेम सागर सिंह

जब हम पहुंचते है अभाव के द्वार पर,
प्रेम की कमी खल ही जाती है,
और व्यथित हो जाता है मन ।
क्‍योंकि,
वह भाव जिसकी आस लिए,
हम पहुंचते हैं दर किसी के,
वहां से गायब सा हो जाता है ।

स्‍वागत की वर्षों पुरानी
तस्‍वीर आज बदल सी गई है ।
लोगों की संवेदनाओं के तार,
अहर्निश झंकृत होने के बजाए,
निरंतर टूटते और बिखरते जा रहे हैं ,
पहले बंद दरवाजे खुल जाते थे ,
आज खुले दरवाजे भी बंद हो जाते हैं ।

अभाव के द्वार पर प्रणय गीत,
मन को अब बेजान सा लगता है ।
गृहस्‍थ जीवन का भार ढो रहे,
संवेदनशील व्‍यक्ति के हृदय में भी,
प्रेम का वह भाव गोचर होता नहीं,
क्‍यों‍कि
वह स्‍वयं इतना बोझिल रहता है
कि, दूसरे बोझ को ढोने के लिए,
वह इस योग्‍य होता ही नहीं ।

यादों के अतल में
आहिस्ता-आहिस्ता जाने की
कोशिश कर ही रहा था कि
चल रही शीतलहरी की
एक अलसाई शाम को,
हल्की धूप में तन्हा बैठा था
कि अचानक भूली बिसरी
स्मृतियों के झरोखे से
उस रूपसी की याद
विचलित कर गयी ।

एक खूबसूरत अरमान को
मन में सजाए,
एक बार उसे देखने की आश लिए,
पहुंच गया था उस सुंदरी के दर पर,
हाथ संकोच-भाव से दस्तक के लिए बढ गया
बंद दरवाजा भी एक आवाज से खुल गया।

सोचा मन ही मन,
खुशहाली से भरी जिंदगी होगी उसकी,
धन, धान्य और शांति से संपन्न होगी,
पर वैसा कुछ नजर नही आया,
जिसकी पहचान मेरी अन्वेषी आखों ने किया,
कहते हैं --
अभाव किसी परिचय का मुहताज नही होता,
शायद कुछ ऐसा ही हुआ मेरे साथ,
नजदीक से देखा ,समझा ओर अनुभव किया,
लगा उसकी जिंदगी के सपने हैं,
टूटने के कगार पर
हालात को समझने में देर न लगी
क्योंकि ---
मैं पहुंच गया था अभाव के द्वार पर

20 comments:

  1. यह आभाव और यह आस ....बहुत मनभावन तरीके से मन की बात को अभिव्यक्त किया है ....आपका आभार

    ReplyDelete
  2. अभाव में आदमी की कसौटी पर परख होती है। कई बार अपने भी साथ छोड़कर हाथ हटा लेते हैं।

    ReplyDelete
  3. वाकई उदास होने के कई कारन हो सकते हे.

    ReplyDelete
  4. अभाव के द्वार पर प्रणय गीत,
    मन को अब बेजान सा लगता है ।
    गृहस्‍थ जीवन का भार ढो रहे,
    संवेदनशील व्‍यक्ति के हृदय में भी,
    प्रेम का वह भाव गोचर होता नहीं,
    क्‍यों‍कि
    वह स्‍वयं इतना बोझिल रहता है
    कि, दूसरे बोझ को ढोने के लिए,
    वह इस योग्‍य होता ही नहीं ।

    जीवन को समझ लेने और सच्चे अनुभवों से गुज़रने के बाद ही कोई ऐसा लिख सकता है …

    आदरणीय प्रेम सागर सिंह जी
    अच्छी रचना के लिए बधाई !



    रक्षाबंधन एवं स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाओ के साथ

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  5. अभाव के द्वार के प्रतीक ने टूटते सपनों की आहट महसूस की ...

    ReplyDelete
  6. अभावों से जूझने में प्रेम कहीं छिप जाता है।

    ReplyDelete
  7. सुन्दर अभिव्यक्ति के साथ भावपूर्ण कविता लिखा है आपने! शानदार प्रस्तुती!
    आपको एवं आपके परिवार को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  8. सहज सार्थक अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  9. हालात को समझने में देर न लगी
    क्योंकि ---
    मैं पहुंच गया था अभाव के द्वार पर।

    अभाव ...जीवन का संघर्ष और ये मन ...कभी-कभी साथ-साथ नहीं चलते तो अभाव महसूस होता है ...!!
    सुंदर रचना..

    ReplyDelete
  10. अभाव के द्वार पर प्रणय गीत,
    मन को अब बेजान सा लगता है ।
    गृहस्‍थ जीवन का भार ढो रहे,
    संवेदनशील व्‍यक्ति के हृदय में भी,
    प्रेम का वह भाव गोचर होता नहीं,
    क्‍यों‍कि
    वह स्‍वयं इतना बोझिल रहता है
    कि, दूसरे बोझ को ढोने के लिए,
    वह इस योग्‍य होता ही नहीं ।
    bahut hi achchhi rachna hai ,swatantrata divas ki badhai .

    ReplyDelete
  11. अभाव किसी परिचय का मुहताज नही होता,
    शायद कुछ ऐसा ही हुआ मेरे साथ,
    नजदीक से देखा ,समझा ओर अनुभव किया,
    लगा उसकी जिंदगी के सपने हैं,
    टूटने के कगार पर
    हालात को समझने में देर न लगी
    क्योंकि ---
    मैं पहुंच गया था अभाव के द्वार पर।
    bahut sunder bhav .shdon ka sunder snyojan
    rachana

    ReplyDelete
  12. लोगों की संवेदनाओं के तार,
    अहर्निश झंकृत होने के बजाए,
    निरंतर टूटते और बिखरते जा रहे हैं ,
    पहले बंद दरवाजे खुल जाते थे ,
    आज खुले दरवाजे भी बंद हो जाते हैं ।
    Sach kaha sanvednayem shuny hoti ja rahi hain or bikhr rahe hain tut rahe han riste bahut khub !

    ReplyDelete
  13. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..... शुभकामनायें
    ,

    ReplyDelete
  15. स्‍वागत की वर्षों पुरानी
    तस्‍वीर आज बदल सी गई है ।
    लोगों की संवेदनाओं के तार,
    अहर्निश झंकृत होने के बजाए,
    निरंतर टूटते और बिखरते जा रहे हैं ,
    पहले बंद दरवाजे खुल जाते थे ,
    आज खुले दरवाजे भी बंद हो जाते हैं ।

    sach-much aaj logo ke dilon me pyar ka abhav ho gaya.mahattwakanchaen itani badh gaee hain ki
    kiseeke pass apne swajano tak ke lie wakt nahee.aapka bahut2 abhar.

    ReplyDelete
  16. सच कहा आपने ! अब संवेदनाओं के कमजोर होने का दौर है किसी के आने पर कोई झंकार नहीं उठती है !
    हार्दिक शुभकामनायें आपके सुन्दर मन के लिए !

    ReplyDelete
  17. सघन भाव, विरल अभिव्यक्ति।

    आभार,

    ReplyDelete
  18. zindgi ke safed-syaah rang bikher diye hain aapne is rachna mein. sahi kaha...
    अभाव किसी परिचय का मुहताज नही होता,
    शायद कुछ ऐसा ही हुआ मेरे साथ,
    नजदीक से देखा ,समझा ओर अनुभव किया,
    लगा उसकी जिंदगी के सपने हैं,
    टूटने के कगार पर
    हालात को समझने में देर न लगी
    क्योंकि ---
    मैं पहुंच गया था अभाव के द्वार पर।
    bahut badhai aur shubhkaamnaayen.

    ReplyDelete
  19. ..... अब संवेदनाओं के कमजोर होने का दौर है

    ReplyDelete