Monday, January 11, 2010

हो जाते हैं क्यूं आर्द्र नयन

हो जाते हैं क्यूं आर्द्र नयन
- प्रेम सागर सिंह
हो जाते हैं क्यूं आर्द्र नयन,
मन क्यूं अधीर हो जाता है ।
स्वयं का अतीत लहर बनकर,
तेरी ओर बहा ले जाता है ।

वे दिन भी बड़े ही स्नेहिल थे।
जब प्रेम सरोवर स्वतः उफनाता था।
उसके चिर फेनिल उच्छवासों से,
स्वप्निल मन भी सकुचाता था ।

कुछ कहकर कुंठित होता था,
तुम सुनकर केवल मुस्काती थी ।
हम कितने कोरे थे उस पल,
जब कुछ बात समझ नहीं आती थी ।

हम बिछुड़ गए दुर्भाग्य रहा,
विधि का भी शायद हाथ रहा ।
लिखा भाग्य में जो कुछ था,
हम दोनों के ही साथ रहा ।

सपने तो अब आते ही नहीं,
फिर भी उसे हम बुनते रहे ।
जो पीर दिया था अपनों ने,
उसको ही सदा हम गुनते रहे ।

अंतर्मन में समाहित रूप तुम्हारा,
अचेतन मन को उकसाया करता है ।
लाख भुलाने पर भी वह मन,
प्रतिपल ही लुभाया करता है ।

तुम जहां भी रहो आबाद रहो,
वैभव, सुख-शांति साथ रहे ।
पुनीत हृदय से कहता हूं ,
जग की खुशियां पास रहे ।

************

7 comments:

  1. संवेदनशील रचना। बधाई।

    ReplyDelete
  2. Bahut acchi kavita,Likhte rahe. Agli kavita ka intejaar rahega.

    ReplyDelete
  3. संवेदनशील रचना।

    ReplyDelete
  4. KYA BAAT HAI PREMSAROWARJI.KAVITA BAHUT AACHI LAGI.AAPKI RACHNA KA ANDAZ NIRALA HAI. AAP LIKHTE RAHE.SHUBHKAMNAY...

    ReplyDelete
  5. वे दिन भी बड़े ही स्नेहिल थे
    जब प्रेम सरोवर स्वतः उफनाता था
    उसके चिर फेनिल उच्छवासों से
    स्वप्निल मन भी सकुचाता था ....

    बहुत ही अच्छी कविता है .... . बहुत खूबसूरती से पिरोया है शब्दों को ...........

    ReplyDelete
  6. Aap Sabhi ko Tahe Dil se Shukriya Ada karta Hun.

    ReplyDelete