Monday, October 12, 2015

सिमट जाता हूं अपने ही आवरण में

                                                      
                                                          
सिमट 
जाता हूं अपने ही आवरण में
************************
प्रेम सागर सिंह

                          सुनो बंधु, जब कभी,
                          बिन छूए हीं छू जाते हो तुम मुझे,
                          सिमट जाता हूूं उस समय,
                           मैं अपने हीं आवरण में।
                          ना जाने कितने हसीन ख़्वाब,
                          सतरंगी रूप में समा जाते हैं,
                          मेरी निगाहों में मेरे जेहन में जबकि,
                          मुझे भी पता है कि उन ख्वाबों की,
                          कोई तावीर नहीं है।
                          सुनो,अब जब ख्वाबों में आना,
                          कोई इंद्रधनुषी छवि,ना लाना,
                         क्यूंकि जब वो पलक खुलते हीं,
                         विलुप्त हो जाते हैं,तो मेरी अश्क भरी,
                         निगाहों से सब कुछ बेरंग और,
                         धुंधला नज़र आता है।
                         तुम्हारा दिया हुआ पल भर की खुशी,
                         मुझे उम्र भर का दर्द दे जाता हैं,
                        मुझे अपने बेरंग दुनियाँ में हीं ,
                        बहुत सुकून है...सुन रहे हो ना...
                       मुझे क्षणिक खुशी देने की कोशिश ,
                       नहीं करो, मैं खुश हूँ...इतना कि,
                       खुशी के आँसू आँखों से यूं हीं,
                       बरबस निकल ही आते हैं !

16 comments:

  1. धन्यवाद.... श्री राकेश जी।

    ReplyDelete
  2. बहुत ही मार्मिक रचना की प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही मार्मिक रचना की प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  4. बहुत दिनों बाद आपकी प्रतिक्रिया को पढ़ कर अभिभूत हुआ। धन्यवाद सह सुप्रभात।

    ReplyDelete
  5. यह " अहम् ब्रह्मास्मि " का बोध है । सुन्दर - प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  6. शकुंतला जी, आपकी प्रतिक्रिया से अभिभूत हुआ।

    ReplyDelete
  7. शुभ लाभ । Seetamni. blogspot. in

    ReplyDelete

  8. सुन्दर रचना ......
    मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन की प्रतीक्षा है |

    http://hindikavitamanch.blogspot.in/
    http://kahaniyadilse.blogspot.in/

    ReplyDelete
  9. बेहद प्रभावशाली रचना......बहुत बहुत बधाई.....

    ReplyDelete
  10. अत्यंत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  11. सच यथार्थ के कठोर धरातल पर कब सुहावने सपने डरावने बन जाय, कुछ कह नहीं सकते ....
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete