Saturday, October 11, 2014

प्रेम का स्वप्निल गणित

प्रेम का स्वप्निल गणित


प्रेम सागर सिंह

अपने गांव के,
इकलौते सरोवर के किनारे
जब तुम मेरा नाम लेकर,
फेंकती थी कंकण,
पानी की हिलोंरों के संग,
तब,
डूब जाया करता था मैं,
बहुत गहरे तक.....
सहेज कर रखे मेरे खतों का,
मेरे अहसासों का,
हिसाब किताब करते समय,
कहते थे,
तुम्हारी तरह
चंदन से महकते हैं,
तुम्हारे शब्द ...
आज जब,
यथार्थ की जमीन पर,
सोच की मुद्रा में बैठता हूं तो,
शून्य में,
लापता हो जाते हैं सारे अहसास,
सारी संवेदनाए,
क्योंकि ...
प्रेम के गणित में,
बहुत कमजोर थे हम दोनों।


23 comments:

  1. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  2. मेरे अहसासों का,
    हिसाब किताब करते समय,
    कहते थे,
    तुम्हारी तरह
    चंदन से महकते हैं,
    तुम्हारे शब्द ...
    आपने बहुत सुन्दर और रहिस्यमय लिख हैँ। आज मैँ भी अपने मन की आवाज शब्दो मेँ बाँधने का प्रयास किया प्लिज यहाँ आकर अपनी राय देकर मेरा होसला बढाये
    मैने कुछ ब्लॉगो को इकेठा करना प्रयास किया हैँ यहा पर आपका ब्लॉग भी हैँ । अगर आपका कोई दुसरा ब्लॉग भी है तो यहाँhttp://safaraapka.blogspot.in/ आकर अपने ब्लॉग का लिँक टिप्पणी बॉक्स मेँ छोङ दे ।
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. क्योंकि ...
    प्रेम के गणित में,
    बहुत कमजोर थे हम दोनों।

    एक दम यथार्थ में लाके खड़ा कर दिए हो आप तो..... कमाल

    मेरे ब्लॉग पर आप आमंत्रित 

    ReplyDelete
  4. कहीं न कहीं बीच में समय के थपेड़े आ गए...
    बहुत कोमल प्यार भरी अहसास।..

    ReplyDelete
  5. ‘‘प्रेम‘‘ के प्ररंभिक अवस्था में प्रत्येक युवा की सोच लगभग यही रहती है ....बहुत सुन्दर रचना
    http://pratibimbprakash.blogspot.com/2014/01/Love-each-youth-in-the-planning-stage-Prrnbhik.html

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर अहसास .........आभार पढवाने के लिए!

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (13-10-2014) को "स्वप्निल गणित" (चर्चा मंच:1765) (चर्चा मंच:1758) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  8. सुन्दर भावपूर्ण रचना !
    कृपया मेरे ब्लॉग पर आएं और फॉलो कर अपने सुझाव दे

    ReplyDelete
  9. सुन्दर एवं भाव-प्रवण कविता के लिए बधाई !

    ReplyDelete
  10. प्रेम के गणित में,
    बहुत कमजोर थे हम दोनों।....बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  11. प्रेम की अंतिम परिणति तो मिट जाना ही है....

    ReplyDelete
  12. दिल को छूते बहुत गहन अहसास...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  13. Prem ke gadit me kamzor the hum dono ..kya lajawaab prastuti...behad bhawpurn...diwali ki anekanek mangalkamnaayein...diwali shubh ho !!

    ReplyDelete
  14. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  15. गहरे अहसासों से भरी प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  16. सुन्दर प्रस्तुति...
    आभार।

    ReplyDelete
  17. क्या बात है , शुभ रात्रि।

    ReplyDelete