Sunday, November 10, 2013

छठ माई को याद करने के बहाने।

छठ मैया को पुन: याद करने के बहाने।
***************************
                                                                                                    
                                        
                                   प्रेम सागर सिंह


बिहार के कण कण में छठ बसता है, क्या भोजपुर, क्या मिथिला और क्या मगध ,समूचा बिहार एक साथ,उत्तर प्रदेश का पूर्वांचल भी धीरे- धीरे रंग गया साथ में | छठ महापर्व आरम्भ हो गया | सूर्य की आराधना वाला यह पर्व अपने जैसा एकलौता | दुनिया में शायद ही कोई पर्व होगा जिसमे आप अपने आराध्य की अर्चना कीजिये और दर्शन तुरंत हो जाता हो | शायद यही कारण है की कोई धर्म की रीति इसे काट नहीं पाती | उर्जा और रोशनी देने वाले महामहिम सूर्य की आराधना का पर्व |

छठी मैया की महिमा को शब्दों में कहना मुश्किल है, भावना अभिव्यक्त करना कठिन है,सिर्फ यही कह सकता हूँ इनका स्मरण मात्र ही हम में से हरेक के अंदर हर्ष और उल्हास तो प्रस्फूटित तो करता ही है , आँखे भी नम हो जाती हैं | बिहार से बाहर रहने वाले बिहारियों की भी|कुछ लौटते है कम से कम साल में एक बार | जो नहीं लौट पाते रो लेते हैं जन्मभूमि को याद कर ,धीरे- धीरे जहाँ है वहां ही चालू कर देते हैं।
बचपन में , 1 महीना पहिले चले जाते थे कुदाल , खुरपी , तगाड़ी लेके घाट बनाने पोखरा पे , हमारे लिए छठ यही था, घाट साफ़ कीजिये जैसे एक किसान खेतों को करता है, फिर उसके ऊपर बाबू जी के इनिसियल खोद दीजिए , बुक हो गया घाट हमारे नाम पर| कलसुप रखने के लिए जगह बनाए , शाम को कलसुप पश्चिम के तरफ रहेगा ,भोर में पूर्व दिशा में | थोड़े बड़े हुए तो दौरा उठाना,किसी का ये कहना की छठ का आधा पुण्य दौरा उठाने वाले को मिलता है | छठ के लिए लाइट लगता है, जेनेरटर भी , हर महल्ला से घाट तक, का शरीफ, का रंगबाज, का लैका, का जवान,सब समाज सेवी बन जाते हैं,सच्चे मन से| सुबह सुबह चाय का स्टाल लगते थे, शुद्ध दूध का चाय पीजिए फ्री में |

शारदा सिन्हा की आवाज जैसे छठी माई खुद गा रही हों “ दौरा घाटे पहुचा “,ऐसे लगता है उनका गाना न हो तो सूर्य देवता उगे ही न|सही में माँ ही की आवाज है| छठ नहीं कर पायें तो क्या,छठ देखिये,रोड साफ़ कीजिये,दौरा उठाइए, कहने का मतलब है सबके लिए मौका है छठ के रंग में रंग जाने का |

आज कल की महिलाएँ बालों में कही छुपा के सिंदूर लगाती है ताकि LS न लगे, छठ में देखिये जो नाक से सिंदूर लगता है माँग तक , कही से LS (Low Society) लगता , ऐसा लगता है सुहागन शायद आज के लिए बनी थी , सिंदूर का गर्व इसी दिन के लिए है,पति को भी गर्व का अहसास होता है |
भोर का अरघ के बाद प्रसाद मांगिये , मांग के खाते है , चाहे बिज़नसमैन हों य कलक्टर , मांग के प्रसाद नहीं खाया तो मतलब नहीं है प्रसाद का | छठ का ठेकुआ आज तक कोई दुबारा वैसा नहीं बना पाया है , कतनो मिटटी के चुल्ला लगाइए , कतनो घी डालिए , श्रद्धा नहीं आ पायेगा , प्रसाद है छठ तक रुकना परेगा |
अगर छठ के दिन घर पर नहीं रहे तो जिंदगी की सारी पढाई लिखाई, मेहनत सब व्यर्थ है , बिना मतलब की है ! मन ही मन छठी मैया तोहरा गोर लागतानी, माफ कर दिहा, अगला बरिस जरुर आईब  ए माई |

7 comments:

  1. हम तो कल से ही छक के प्रसाद खा रहे हैं ......

    ReplyDelete
  2. नमस्कार !
    आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा कल सोमवार [11.11.2013]
    चर्चामंच 1426 पर
    कृपया पधार कर अनुग्रहित करें |
    सादर
    सरिता भाटिया

    ReplyDelete
  3. छठ कि पावन बधाई

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर .बेह्तरीन अभिव्यक्ति !शुभकामनायें.
    कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogsp

    ReplyDelete
  5. बढ़िया प्रस्तुति....

    ReplyDelete